काबुल में गुरूद्वारे पर आतंकी हमला, एक की मौत, कई फंसे

काबुल

काबुल

अंकित कुमार तिवारी।
पिछले अक्तूबर में, तालिबान के सत्ता में आने के कुछ महीने बाद, अज्ञात बंदूकधारियों ने गुरुद्वारा परवन पर धावा बोल दिया था और संपत्ति में तोड़फोड़ की थी। तब से, अफगानी सिख भारत को बचाए जाने की अपील कर रहे हैं। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हथियारबंद बंदूकधारियों द्वारा गुरुद्वारे पर ताबड़तोड़ फायरिंग की खबर सामने आ रही है। इस घटना में कम से कम 25 लोगों के हताहत होने की आशंका है। एक समाचार पत्र ने गुरुद्वारा अध्यक्ष गुरनाम सिंह के हवाले से यह जानकारी दी है। गुरनाम सिंह ने बताया है कि बंदूकधारियों ने अचानक गुरुद्वारे पर धावा बोला और फिर ताबड़तोड़ फायरिंग करने लगे। कुछ लोग जान बचाने के लिए इमारत की दूसरी तरफ छिपे हुए हैं। वहीं कम से कम 25 लोग गुरुद्वारा के अंदर फंस गए हैं। ताजा जानकारी के अनुसार गुरुद्वारा के मुस्लिम गार्ड की मौत हो गई है जबकि दो अस्पताल में भर्ती हैं। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम काबुल में एक पवित्र गुरुद्वारे पर हमले को लेकर बहुत चिंतित हैं। हम स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और आगे की घटनाओं के बारे में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा कर रहे हैं। भाजपा नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि जानकारी के अनुसार अब तक तीन लोग निकल चुके हैं। जिनमें से दो को अस्पताल भेजा गया है। गुरुद्वारा के गार्ड की मौत हो गई है। माना जा रहा है कि 7-8 लोग अभी भी अंदर फंसे हुए हैं लेकिन संख्या की पुष्टि नहीं हुई है। अभी भी काबुल में फायरिंग जारी है। काबुल में लोग बहुत डरे हुए हैं।