सपा मुखिया अखिलेश यादव ने तोड़ा चुनाव आयोग का दिशा निर्देश-जुटाई हजारों की भीड़

सियासी सट्टेबाजी

सियासी सट्टेबाजी

देश में कोरोना वायरस ने अपना ग्राफ तेजी से बढ़ाना शुरु कर दिया है। सरकार व प्रशासन कोरोना की बदहाली से बचने का हर संभव प्रयास कर रही है। वहीं उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया था। यूपी में खासकर सियासी पार्टियों की नजर होती है। बीजेपी के कुछ बागी मंत्री और विधायकों ने सपा की सदस्यता ग्रहण की। अखिलेश यादव के नेतृत्व में बीजेपी के बागियों ने शपथ ली। इस दौरान समर्थकों की भीड़ ने कोरोना प्रोटोकॉल का उलघ्न किया। हजारों की संख्या में जुटे लोगों ने कोरोना के भय को त्याग दिया। उल्लेखनीय है, चुनाव आयोग के द्वारा जारी निर्देशों का उल्लघंन करते हुए सपा कार्यकर्ताओं को देखा जा सकता है।  वर्चुअल कार्यक्रम के लिए मनाई की गई फिर भी सपाईयों ने सरेआम धज्जियां उड़ाते हुए भीड़ को इकट्ठा किया। इससे स्पष्ट होता होता है कि सपा के मुखिया अखिलेश यादव को जनता की जान की फिक्र नहीं उन्हें परवाह है तो कुर्सी से। वहीं पूर्व कैबिनेट मंत्री मौर्य ने कहा कि आज का दिन भारतीय जनता पार्टी के अंत का इतिहास लिखने जा रहा है. मौर्य ने कहा कि  आज बीजेपी के बड़े नेता जो कुंभकर्णी नींद सो रहे थे, जिनको कभी नेताओं, विधायकों और सांसदों से बात करने का वक्त नहीं मिता था, आज उनकी नींद हराम हो गई है. उनको नींद ही नहीं आ रही है.

मौर्य ने कहा बीजेपी के कुछ लोगो कहते  हैं पांच साल तक इस्तीफा क्यों नहीं दिया? कुछ लोग यह भी कहते हैं बेटे के चक्कर में बीजेपी छोड़ी… मैं ऐसे लोगों से कहना चाहता हूं कि बीजेपी के लोगों ने दलितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों और मजलूमों की आंख में धूल झोंककर सत्ता हासिल की थी.

उन्होंने दावा किया कि पिछले चुनाव में दावा किया जा रहा था या तो केशव प्रसाद मौर्य या तो स्वामी प्रसाद मौर्य सीएम होंगे …. लेकिन पहले तो गाजीपुर से नेता को सीएम बनाने की कोशिश की गई…फिर गोरखपुर के नेता को सीएम बना दिया. सरकार पिछड़े लोग बनाएं और मलाई अगड़े खा रहे हैं. मौर्य ने कहा आज के बाद ऐसी आंधी चलेगी जिससे बीजेपी के परखच्चे उड़ जाएंगे.

मौर्य ने कहा जिसका मैं साथ छोड़ता हूं, उसका कहीं अता-पता नहीं रहता है. हमारी बहन जी ( पूर्व सीएम मायावती) इसका मिसाल हैं. उन्होंने कहा कि मैं जब बसपा में था, वह नंबर 1 थी. बीजेपी नंबर 3 पर थी. मैं बीजेपी में गया तो वह नंबर 1 पर चली गई.  मौर्य ने कहा कि 10 मार्च को जब परिणाम आएंगे तो भाजपा फिर से साल 2017 के पुराने आंकड़े पर पहुंच जाएंगी. सपा नेता ने कहा कि अब प्रदेश को बीजेपी के शोषण से मुक्त करने का समय आ गया है.

आपको बता दें कि यूपी में पहले चरण के चुनाव के लिए आज अधिसूचना जारी हो गई है और साथ ही नामांकन दाखिल करने का सिलसिला भी शुरू हो गया है. इस चरण में प्रदेश के 11 जिलों शामली, मेरठ, मुजफ्फरनगर, बागपत, हापुड़, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर, मथुरा, आगरा और अलीगढ़ की कुल 58 सीटों के लिए मतदान होगा. नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 21 जनवरी है. अखिलेश यादव

आप चूक गए होंगे