बिहार में सोने का भंडार, भारत फिर बनेगा सोने की चिड़िया

बिहार

अनुराग दुबे :- प्राकृति अपने गर्भ में अनगिनत रहस्य छिपा कर रखी है। भारत दुनिया भर में अपने संस्कृति के वजह जाना जाता है। भारत का अपनी सांस्कृतिक विरासत है। भारत अपने धर्म संस्कृति,  ऐतिहासिक विरासत, रहस्यों के लिए मशहुर है। भारत में कई ऐसी विरासतें है जो कि अपने अन्दर बेहद रहस्य पिरोये है। भारत एक ऐसा देश है, जहाँ विविधता में एकता और पुरानी धर्म संस्कृति इसका मजबूत कडी है। भारत में कई ऐसा खुफिया जगह है, जो आज भी वैज्ञानिकों के लिए एक सिर दर्द बना हुआ यानि आजतक उनके रहस्य को सुलझा नहीं पाए हैं।

बिहार का एक शहर है जिसका नाम राजगीर है और इसी के पास एक गुफा है, जो अपनी रहस्य के लिए फेमस है। राजगीर बिहार का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। यहाँ पर देश-विदेश से लोग घुमने आते हैं। राजगीर में  शीशे का पुल है जो बिहार के पर्यटन में चार-चाँद लगाने का काम करता है। राजगीर के पास एक गुफा है जिसमें सोने का भंडार है ऐसा बडे-बडे इतिहासकार बताते हैं। इतिहासकार बताते हैं कि हर्यक वंश की स्थापना करने वाले बिम्बिसार को सोने चांदी बहुत पसंद थे। सोने और चांदी के प्रति लगाव की वजह से वह आभूषणों को जमा करते रहते थे। कहा जाता है कि राजगीर की इस गुफा में बिम्बिसार का बेशकीमती खजाना छिपाकर रखा गया है। इस खजाने को बिम्बिसार की पत्नी ने छिपाया है। लेकिन इस खजाने को आज तक कोई भी नहीं खोज पाया। अंग्रेजों ने भी इस गुफा में जाने की तमाम कोशिशें कीं, लेकिन उनके हाथ भी नाकामी लगी इस गुफा को सोन भंडार कहा जाता है।

इस गुफा में सोने का भंडार है ऐसा भारत के कई प्रसिद्ध इतिहासकार बताते हैं। अंग्रेजों ने भी इस गुफा को भेदने का प्रयास किया लेकिन ये भी सकार नहीं हुआ और सोन भंडार का यह रहस्य सार्वजनिक नहीं हुआ और यह आज भी रहस्य का केंन्द्र बना हुआ है।