आईआईएमटी कॉलेज समूह में हजारों छात्रों को फ्री स्मार्टफोन और टैबलेट का वितरण
 

आईआईएमटी

आईआईएमटी


 
अनुराग दुबे : उत्तर प्रदेश के युवाओं को आधुनिक दौर से जोड़ने और स्वावलंबी बनाने को लेकर प्रदेश सरकार की यूपी फ्री स्मार्टफोन टैबलेट योजना की शुरुआत कर दी है। इसके तहत ग्रेटर नोएडा स्थित आईआईएमटी कॉलेज समूह में अनेक छात्र-छात्राओं को टैबलेट व स्मार्टफोन वितरित किए गए। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि एमएलसी श्रीचंद शर्मा ने शिरकत की। इस दौरान कार्यक्रम में मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह, जिला समाज कल्याण विभाग के अधिकारी शैलेंद्र बहादुर सिंह, आगरा में जीएसटी कमिश्नर जयशंकर शाही, न्यजू-18 के चीफ एडिटर विवेक मिश्रा ने भी भाग लिया। इस मौके पर एमएलसी श्रीचंद शर्मा ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि युवाओं के मदद के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने छात्रों के बीच स्मार्टफोन और टेबलेट बांटने की योजना को तेज कर दिया है। ये स्मार्टफोन और टेबलेट छात्रों को रोजगार के अवसरों के बारे में जानकारी हासिल करने और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद करेंगे। अब तक यूपी के छात्रों को लाखों की संख्या में टैबलेट-स्मार्टफोन बांटे जा चुके हैं।

उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार चुनावों में किए गए वादों को पूरा करने में डटी हुई है। सरकार प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी की भी व्यवस्था कर रही है और छात्रों को इसके लिए बाहर जाने की जरूरत नहीं होगी। वहीं कार्यक्रम में आईआईएमटी कॉलेज समूह के प्रबंध निदेशक डॉ. मयंक अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने छात्र-छात्राओं को डिजिटल युग से जोड़ने की जो पहल की है। वह बेहद सराहनीय है। इसके अलावा, इनको पीएम मुद्रा, स्टार्टअप, स्टैंडअप, पीएम युवा स्वरोजगार, ओडीओपी, विश्वकर्मा श्रम सम्मान जैसी योजनाओं से जोड़ा जा रहा है। आने वाले समय में यूपी सरकार की तरफ से छात्रों को जो मदद मिली है वह उनके लिए मील का पत्थर साबित होगी। कार्यक्रम में आईआईएमटी कॉलेज ऑफ मेनेजमेंट में 413, कॉलेज ऑफ लॉ में 225, कॉलेज ऑफ पॉलिटेक्निक में176, कॉलेज ऑफ फॉर्मेंसी में 46, कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में 296 साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी में 111 छात्रों को स्मार्टफोन और टैबलेट मिले। इस मौके पर कॉलेज समूह के जनरल डॉयरेक्टर सभी कॉलेज के निदेशक सहित डीन, एचओडी के साथ साथ फैक्लटी के अनेक लोग उपस्थित रहे।