उत्तर प्रदेश और दिल्ली समेत राजस्थान में हर दिन डेंगू का नया केस

निधी वर्मा।

दिल्ली में मलेरिया, डेंगू और चिकुनगुनिया के बढ़ते मामले को लेकर चिंतित डाक्टरों का कहना है कि हाई फीवर के साथ आ रहे मरीजों को कोरोना संक्रमित होने का खतरा है। दरअसल ये मामले जुलाई से नवंबर के बीच में आते हैं जो बढ़कर दिसंबर तक खींच सकता है। दिल्ली में भी डेंगू के बढ़ते मामलों को देखते हुए तमाम अल्पतालों में उचित इंतजाम किए गए हैं।


दिल्ली में सोमवार को डेंगू के कारण इस साल की पहली मौत रिकार्ड की गई। वहीं जम्मू कश्मीर के ऊधमपुर में मंगलवार को 6 मामले सामने आए है। दूसरी ओर राजस्थान में तीन नवंबर तक डेंगू मुक्त राजस्थान अभियान शुरु किया गया है। एक जानवारी के अनुसार अब तक सात हजार से ज्यादा डेंगू पीडित मिल चुके है। एक माहिने में 40 लोगों की मौत सामने आई है। हालांकि, सरकार की तरफ से मरने वालों का कोई अधिकारी आकड़ा सार्वजनिक नहीं किया गया हैं।


वहीं बात करें मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद स्थित नागफनी पुलिस स्टेशन एरिया में दो की मौत डेंगू के कारण हो गई हैं। इससे पहले 6 दिनों में कुल 333 लोगों के एलिजा टेस्ट किए गए जिसमें से 47 डेंगू पाजिटिव पाए गए हैं। एरिजा में एहतियातन छिड़काव किया जा रहा हैं।