31 मई को भारतीय रेलवे में हो सकती है हड़ताल

रेलवे

रेलवे

दीपक कुमार तिवारी: भारतीय रेलवे के स्टेशन मास्टरों ने 31 मई को हड़ताल करने की चेतावनी दी है। इसके साथ ही कहा है कि अगर समय रहते इंडियन रेलवे ने स्टेशन मास्टरों की मांगों पर विचार नहीं किया तो लोगों को भारी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। देशभर के करीब 35 हजार स्टेशन मास्टरों ने रेलवे बोर्ड को इस संबंध में नोटिस दिया है। इसकी जानकारी ऑल इंडिया स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन की तरफ से दी गई है।

क्या है वजह

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक ऑल इंडिया स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन ने कहा है कि वो अक्टूबर 2020 से ही अपनी मांगों को लेकर संघर्ष कर रहे हैं। एसोसिएशन के अध्यक्ष धनंजय चंद्रात्रे का कहना है कि अब स्टेशन मास्टरों के पास सामूहिक अवकाश पर जाने के अलावा कोई और दूसरा रास्ता नहीं बचा है। धनंजय के मुताबिक देश में इस समय 6 हजार से भी ज्यादा स्टेशन मास्टरों की कमी है, लेकिन रेल प्रशासन इन पदों पर भर्ती नहीं कर रहा है। एसोसिएशन का कहना है कि स्टेशन मास्टरों की कमी होने की वजह से उन्हें 12-12 घंटे तक की शिफ्ट करनी पड़ती है।

कई मांगों को लेकर दी है चेतावनी

1.      रेलवे में सभी रिक्तियों को जल्द से जल्द भरा जाए।

2.      सभी रेल कर्मचारियों को बिनी किसी अधिकतम सीमा के रात्रि ड्यूटी भत्ता बहाल किया जाए।

3.      स्टेशन मास्टरों के कैडर में एमएसीपी (modified assured career progression scheme)  का लाभ 16 फ़रवरी 2018 के बजाय 1 जनवरी 2016 से प्रदान करना।

4.      संशोधित पदनामों के साथ संवर्गो का पुनर्गठन करना।

5.      स्टेशन मास्टरों को सुरक्षा और तनाव भत्ता दिया जाए।

लंबे संघर्ष के बाद लिया फैसला

बताया गया है कि स्टेशन मास्टरों ने हड़ताल करने का फैसला एकदम से नहीं लिया है। वे कई सालों से खाली पदों को भरने की मांग उठा रहे हैं। लेकिन पद नहीं भरे गए. इसे लेकर कई दफा उन्होंने विरोध भी जाहिर किया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। आखिरकार उन्हें हड़ताल करने के लिए मजबूर होना पड़ा।