देश में बढ़ रही ब्रेन डेड की समस्या

ब्रेन डेड

ब्रेन डेड

दिन भर की भाग दौड़ में हमलोग अकसर अपना ख्याल रखना भूल जाते है लेकिन हमारा दिमाग सारे शरारिक कार्य पर नियंत्रण रखता है। विचार, भाव, और शरीर की सारी गतिविधियां परफॉर्म करता है जिसके बदौलत हम जिंदा रह पाते है । पर क्या आपने सोचा है कि अगर हमारा दिमाग केवल 5 सेकंड के लिए पूर्ण रूप से बंद पड़ जाए तो हमारा और हमारे अंगो का क्या होगा ? दिमाग बंद पड़ जाने वाली बात पर आप सबके दिमाग में पहला खयाल आया होगा “कोमा” का , परंतु आपमें से बहुत से लोगो को नही पता पूरी तरह से दिमाग का बंद हो जाना और कोमा में जाने में क्या फर्क है। जब इंसान कोमा में होता है तो भी उसकी आखों की पुतलियों में हलचल रहती है और उसका दिल भी धड़कता है परंतु जब इंसान का दिमाग पूरी तरह से बंद पद जाता है तो वो “ब्रेन डेड” हो जाता है । जी हां आगर केवल 5 सेकंड के लिए भी इंसान का दिमाग बंद पड़ जाए तो वो ब्रेन डेड हो जाएगा । देखने से भले ही लगे की इंसान बहुत गहरी नींद में सोया है परंतु उसका शहरी उसी छण मृत हो जाएगा । डॉक्टर्स किसी भी व्यक्ति को चिकित्सकीय रूप से “ब्रेन डेड” घोषित करने के लिए कुछ टेस्ट्स करते है ।जैसे की आखों पर टॉर्च की लाइट मार कर ये देखना की पुतलियों में हलचल है या नहीं , शरीर के साथ कुछ ऐसी गतिविधियां करना जिससे पता चल सके की दर्द का एहसास हो रहा है या नहीं और फिर पल्स देखना । जब शरीर में कोई हलचल न दिखे तो डॉक्टर्स इंसान को “ब्रेन डेड” घोषित कर देते है । ब्रेन डेड होने के बाद आपके सभी अंग धीरे धीरे करके काम करना बंद कर देंगे और देखते ही देखते एक हफ्ते में आपकी किडनी भी आपका साथ छोड़ देगी । लेकिन इस बारे में आपको घबराने की जरूरत नही है , क्युकी ब्रेन डेड कोई इतनी आसानी से नहीं होता । अगर किसी अस्पताल में 200 लोगो की मौत हुई है तो उनके से कोई एक ही शायद ब्रेन डेड हो । आप बस अपना खयाल रखे और ऐसी ही दिलचस्प बातें जानने के लिए देखते रहें