टूट सकता है ओवैसी और राजभर के बीच गठबंधन, जानिए वजह

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों में अब कुछ ही महीनों का समय बचा हुआ है। पिछले दिनों एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने अपने यूपी दौरे के दौरान यह ऐलान किय़ा था कि उनकी पार्टी ओम प्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। जिसके बाद दोनों ने यूपी के आगामी चुनाव में गठबंधन को लेकर सार्वजनिक तौर पर हामी भी भरी थी।

मालूम हो, बीते दिन ओम प्रकाश राजभर ने बीजेपी के साथ एक बार फिर गठबंधन को लेकर इच्छा जाहिर की है। उन्होंने पार्टी के सामने सशर्त गठबंधन का प्रस्ताव पेश किया है। राजभर ने अपनी शर्तों में सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट लागू करने, स्नातकोत्तर तक एक समान फ्री शिक्षा, घरेलू बिजली बिल माफी, जातिवार जनगणना, पुलिस में बॉर्डर सीमा समाप्त, पुलिस में 8 घंटे ड्यूटी, साप्ताहिक छुट्टी, होमगार्ड, पीआरडी जवानों को पुलिस समान सुविधा लागू करने जैसी मांगे रखी हैं।

शुक्रवार को एआईएमआईएम के नेता ने इस विषय पर सफाई देते हुए कहा कि यदि ओमप्रकाश राजभर की पार्टी बीजेपी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ती है तो वे उनकी पार्टी इस गठजोड़ का हिस्सा नहीं होगी। एआईएमआईएम के प्रवक्ता सैयद असीम वकार ने कहा कि उनकी पार्टी कभी भी भाजपा में शामिल नहीं हो सकती है। हम तब तक हार नहीं मानेंगे जब तक भाजपा हार नहीं जाती है।