20 महीनों बाद खुला करतारपुर कॉरिडोर, जानिए कैसे होगा रजिस्ट्रेशन

करतारपुर कॉरिडोर

भारत के श्रद्धालुओं के लिए बड़ी खुशखबरी, पाकिस्तान में दरबार साहिब के लिए कॉरिडोर खोल दिया गया है। ये भव्य दरबार 20 माह बाद खुलने जा रहा है। दरबार के खुलने का इंतजार भारतवासियों का विगत 20 महीनों से था। उनका इंतजार अब समाप्त हो गया है। कॉरिडोर में जाने के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरु कर दी गई है।

रजिस्ट्रेन होते ही पहला जत्था दर्शन के लिए पहुंच गया। पाकिस्तान के सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की तरफ से उन श्रद्धालुओं को फूलों की हार पहनाकर उन सभी का स्वागत किया गया। श्रीगुरुनानक देव जी के प्रकाश पर्व से ठीक पहले दरबार साहिब रोशनी से जगमगा रहा है। इस खास मौके पर अरदास और कीर्तन में भी श्रद्धालु शामिल हुए।


करतारपुर सिखों का पवित्र स्थान है जो इस वक्त पाकिस्तान में है। पहले सिख गुरु श्री गुरुनानक देव जी ने अपने जीवन का आखिरी वक्त यहीं बिताया है। लेकिन पाकिस्तान में होने की वजह से यहां दर्शनों में दिक्कत आती थी। कुछ साल पहले तक भारत के सिख श्रद्धालु सिर्फ दूरबीन से दरबार साहिब के दर्शन किया करते थे। लेकिन करतारपुर कॉरिडोर खुलने से वो अब सीधे दरबार साहिब में जाकर माथा टेक सकते हैं।

इसका एक सिरा भारत में है। इसे पंजाब के गुरदासपुर में डेरा बाबा नानक के साथ जोड़ा गया है। वहीं पाकिस्तान में दरबार साहिब गुरुद्वारा है जिसकी दूरी सीमा से 4 किलोमीटर है। कॉरिडोर की कुल लंबाई करीब पांच किलोमीटर है। इस कॉरिडोर के बाद दर्शन के लिए वीजा की जरूरत नहीं पड़ती है। 9 नवंबर 2019 को इस कॉरिडोर का उद्घाटन हुआ था। हालांकि 16 मार्च 2020 को कोरोना फैलने पर इस कॉरिडोर को बंद करना पड़ा था।

आप चूक गए होंगे