इस बार गणतंत्र दिवस परेड में क्या होगा खास, जानिए इस रिपोर्ट में

गणतंत्र दिवस परेड

गणतंत्र दिवस परेड

26 जनवरी की परेड में एक बार फिर भारतीय सेना अपना दमखम दिखाने को तैयार है. बताया जा रहा है कि इस साल होने वाले फ्लाईपास्ट पिछले सालों से ज्यादा भव्य होने वाले है. गणतंत्र दिवस के बाद तीन दिन चलने वाला बीटिंग द रिट्रीट  इस बार नहीं किया जाएगा। भारतीय वायुसेना, सेना और नौसेना के विमानों सहित 75 लड़ाकू विमानों के साथ गणतंत्र दिवस परेड के दौरान राजपथ पर होने वाला फ्लाईपास्ट अब तक का सबसे भव्य फ्लाईपास्ट होगा। आजादी का अमृत महोत्वस मनाने के लिए 5 राफेल 17 जगुआर लड़ाकू विमान 75 के आकार में उड़ान भरेंगे. इस साल गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय द्वारा संस्कृति मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के सहयोग से भुवनेश्वर और चंडीगढ़ में कलाकुंभ का आयोजन किया गया था, जिसमें देश के विभिन्न कलाकारों ने हिस्सा लिया था. देश की आजादी की भुवनेश्वर और चंडीगढ़ में 75 मीटर के कुल 10 स्क्रोल कैनवस पर चित्र बनाए , जिनकी कुल लंबाई 750 मीटर से भी अधिक है. इन स्क्रॉल्स को गणतंत्र दिवस, 2022 के मौके पर राजपथ पर कलात्मक रूप से प्रदर्शित किया जाएगा. इस साल गणतंत्र दिवस पर विदेशी मेहमान की उपस्थिति नहीं होगी। कोरोना के बढ़ते संकट की वजह से 50 फीसदी क्षमता के साथ लोगों की उपस्थिति को स्वीकृति मिली है। इस साल गणतंत्र दिवस की आमंत्रितों की सूची में निर्माण श्रमिक, सफाई कर्मचारी, अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता और ऑटो-रिक्शा चालक शामिल हैं. इसका उद्देश्य समाज के प्रत्येक व्यक्ति को अवसर देना है. खबरों के अनुसार इस बार परेड आधा घंटे विलंब से प्रारंभ होगी।

गणतन्त्र दिवस भारत का राष्ट्रीय पर्व है जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है। 26 जनवरी 1950 को अंग्रेजों के बनाये भारत सरकार अधिनियम 1935 को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था। एक स्वतंत्र गणतांत्रिक देश बनाने के लिए संविधान को 1949 को भारतीय संविधान सभा ने स्वीकार किया था और 26 जनवरी 1950 को इसे लागू किया गया था। गणतंत्र दिवस परेड