शरद पवार ने बुलाई NCP विधायकों की समीक्षा बैठक

शरद पवार

शरद पवार

अनुराग दुबे : शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे के तेवर अभी भी नरम नहीं हुए हैं। 37 से अधिक पार्टी विधायकों के समर्थन मिलने का दावा कर वे दलबदल विरोधी कानून को भी चुनौती देने के लिए तैयार हैं। इस बीच शिवसेना के चार और बागी विधायक बुधवार देर रात गुवाहाटी पहुंच गए। इससे पहले बुधवार शाम को ही मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लोगों को संबोधित किया और देर रात सरकारी आवास छोड़कर मातोश्री पहुंच गए। उद्धव सरकार की संकट को देखते हुए आज शरद पवार ने NCP के विधायकों की आपातकाल बैठक बुलाई है। गुवाहाटी के होटल में देर रात चार और विधायकों को देखे जाने के बाद शरद पवार ने इस बैठक को बुलाई है। मीडिया रिपोर्टस की मानें तो शरद पवार पुरी कोशिश में हैं कि सरकार ना गिरे।

एकनाथ सिंदे का कहना है कि महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना मिलकर सरकार बनाए। हालांकि इस विचार पर उद्धव की कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है। इधर उद्धव का देर रात मुख्यमंत्री आवास छोड़कर मातोश्री जाना यह साबित कर रहा है कि वह कितने टेंशन में हैं। मीडिया की मानें तो बीते रात को शिवसेना के तीन और विधायकों को गुवाहाटी के रैडिसन ब्लू होटल के अंदर दो कारों से जाते देखा गया है, जहां पार्टी के और भी बागी विधायक ठहरे हुए हैं। सियासी संटक के बीच उद्धव ठाकरे पर आरोपों का दौर भी जारी है। ट्वीटर पर कई यूजर्स ने लिखा है कि महाराष्ट्र सरकार हिंदुत्व के लिए अबतक कुछ नहीं कर पाई। शिवसेना अपने जिस कट्टर छवि के लिए जानी जाती थी वो छवि आजकल नही दिख पा रही है। एक यूजर ने लिखा कि ये बाला साहब की शिवसेना नहीं हो सकती है।