परिवहन विभाग

परिवहन विभाग

अगर आप के पास 10 साल पुराना डीजल या 15 साल पुराना पेट्रोल वाहन है तो उसे स्क्रेप करा दें अन्यथा दूसरे राज्य में पंजीकृत करा लें। सड़़क पर निकाला तो इस बात के लिए तैयार रहें कि वह कभी भी जब्त हो सकता है। दिल्ली परिवहन विभाग 2021 से अब तक ऐसे कुल 3299 वाहन जब्त कर चुका है। इसमें भी 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों की संख्या अधिक है। इस श्रेणी के कुल 3120 वाहन जब्त किए गए हैं, जबकि 10 साल पुराने 179 वाहन जब्त किए गए। आंड़कों पर नजर डालें तो सबसे अधिक वाहन गत दिसंबर में जब्त किए गए। जिनकी संख्या 1377 है। इसमें 1372 वाहन 15 साल पुराने हैं। इसी तरह नवंबर में 854 वाहन जब्त किए गए। इसमें 834 वाहन 15 साल पुराने हैं।

जनवरी 2022 में भी अभी तक 305 वाहन जब्त किए गए हैं। इसमें 287 वाहन 15 साल पुराने हैं।इसी तरह मार्च में कुल 119 वाहन जब्त किए गए। फरवरी में 79, अक्टूबर में 66, जुलाई में 40,अगस्त में 28, अप्रैल में 26, जून में 23,जनवर 2021 में 9 और मई में केवल दो वाहन जब्त किए गए। यहां यह बात ध्यान देने वाली है कि अगर बार वाहन जब्त कर लिया गया तो फिर वापस नहीं मिलेगा।

परिवहन विभाग इस साल में 1187 वाहन अभी तक विभिन्न एजेंसियों को स्क्रैप करने के लिए दे चुका है।इसमें सबसे अधिक नवंबर में 339 और दिसंबर में 841 दिए गए हैं। इसके अलावा अगस्त में पांच वाहन एजेंसिेयों को सौपे गए। अन्य महीनों में यह संख्या निल रही है।

परिवहन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी करते हैं एक जनवरी को जिस तरह 10 साल पुराने करीब एक लाख डीजल वाहनें का पंजीकरण निरस्त किया गया है। उस तरह भले ही 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों का पंजीकरण निरस्त करने की घोषणा नहीं की गई है, मगर 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों का पंजीकरण स्वत: निरस्त हो चुका है।

इस बारे में परिवहन विभाग नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के निर्देश पर गत 14 दिसंबर को आदेश जारी कर चुका है। इस तरह का जो भी वाहन सड़क पर मिलेगा उस जब्त कर लिया जाएगा। लोगों के पास दो विकल्प हैं या तो उन्हें स्क्रैप करा दें या फिर दूसरे राज्य में पंजीकरण करा लें। इसके अलावा इलेक्ट्रिक में भी बदलवाने का उनके पास विकल्प है। दिल्ली में 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों की पंजीकरण संख्या करीब 30 लाख बताई जा रही है।