लखीमपुर खीरी हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई, यूपी पुलिस सौंपेगी अब तक की रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में तीन अक्टूबर को कुछ किसान प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान किसानों और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प हो गई थी। इस झड़प में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। बता दें, इस घटना के लिए किसान संगठनों ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा पर किसानों की हत्या का आरोप लगाया था। मालूम हो, अब तक हुई कार्रवाई में 13 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। लखीमपुर में हुई हिंसा के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट आज सुनवाई करेगा। इस दौरान यूपी पुलिस अब तक की कार्रवाई का ब्यौरा सौंपेगी। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए यूपी पुलिस को फटकार लगाई। वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार द्वारा की गई कार्रवाई पर भी नारज़गी जाहिर की थी।

गौरतलब है, इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ का बेटा आशीष मिश्रा उर्फ मोनू मुख्य आरोपी है। आशीष मिश्रा उर्फ मोनू, जिसे नौ अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था, फिलहाल पुलिस हिरासत में है। इस मामले में अब तक गिरफ्तार किए गए अन्य आरोपियों में भाजपा के कई कार्यकर्ता शामिल हैं। सुमित जायसवाल, अंकित दास, लतीफ उर्फ काले, शेखर भारती, शिशु पाल, सत्य प्रकाश त्रिपाठी उर्फ सत्यम, नंदन सिंह बिष्ट, आशीष पांडे और लवकुश राणा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आशीष पांडे और लवकुश राणा को छोड़कर अन्य सात आरोपियों को भी पूछताछ के लिए पुलिस ने अदालत की अनुमति के बाद अपनी हिरासत में लिया था।