उत्तर प्रदेश में 15 अप्रैल से सभी मंडियों में होगी गेहूं की खरीद

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



राजतिलक शर्मा



कोरोना की वजह से हुए लॉकडाउन ने अब किसानों की चिंता बढ़ा दी है। किसानों को चिंता है कि अब गेहूं और सरसों को बाजार में कैसे बेचे। इसी को लेकर उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा है कि सरकार किसानों की सहूलियत के लिए काम कर रही है। अब किसान को अपनी फसल को बेचने के लिए दूर जाने की आवश्यकता नहीं है। कोरोना के संक्रमण को देखते हुए सरकार ने गांव के पास ही क्रय केंद्र बनाने का फैसला लिया है। इसको लेकर अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। गेहुं खरीदारी के समय सोशल डिस्टेंसिंग और सुरक्षा के सभी नियमों का पालन कड़ाई से लागू किया जाएगा। किसान अपनी फसल को बेचने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करा रहे हैं। खाद्य एवं रसद विभाग के अधिकारी प्रमांशु शेखर ने कहा है कि किसानों को मंडी में आने के लिए कूपन दिए जाएंगे और 15 अप्रैल से यूपी की सभी मंडियों में किसानों से गेहूं और सरसों को खरीदने की शुरुआत हो जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि मंड़ी के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो। इस दौरान जो भी किसान मंड़ी में अपना माल लेकर आए उसे न्यूनतम समर्थन मूल्य पर जरुर खरीदें। वहीं किसी भी कीमत पर सोशल डिस्टेंसिंग का सभी लोगों से पालन कराया जाए।