अलसी का स्मूदी बनाकर करे नियमित सेवन, पाएं आश्चर्यजनक लाभ

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



अलसी भारत में उपजाई जाने वाली एक लाभकारी औषधि है।भूरे-काले रंग के यह छोटे छोटे बीज, हृदय रोगों से आपकी रक्षा करते हैं। इसमें उपस्थित घुलनशील फाइबर्स, प्राकृतिक रूप से आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने का काम करता है। इससे हृदय की धमनियों में जमा कोलेस्ट्रॉल घटने लगता है, और रक्त प्रवाह बेहतर होता है, नतीजतन हार्ट अटैक की संभावना नहीं के बराबर होती है । अलसी में ओमेगा-3 भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो रक्त प्रवाह को बेहतर कर, खून के जमने या थक्का बनने से रोकता है, जो हार्ट-अटैक का कारण बनता है। यह रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी सहायक है। यह शरीर के अतिरिक्त वसा को भी कम करती है, जिसे आपका वजन कम होने में सहायता मिलती है।अलसी में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स और फाइटोकैमिकल्स, बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करती है, जिससे त्वचा पर झुर्रियां नहीं होती और कसाव बना रहता है। इससे त्वचा स्वस्थ व चमकदार बनती है। इसका सेवन ऑयल और बीज के रूप में किया जाता है। इसके नियमित सेवन करने से शरीर फुर्तीला और रोग मुक्त होता है। इसमें मैंगनीज, मैग्नीशियम, फास्फोरस, सेलेनियम, आयरन पोटेशियम व कैलोरी, जिंक, कॉपर पाया जाता है। साथ ही सोडियम, कार्बोहाइड्रेट, फायबर, प्रोटीन, कोलेस्ट्रॉल और विटामिन(बी1, बी6, बी12, विटामिन ए, सी और डी) मौजूद रहता है। इसके नियमित सेवन से पेट से जुड़ी समस्या, वजन घटाना, स्त्री रोग, जोड़ों में दर्द में मददगार साबित होती हैं। इसी के साथ ग्लूटेन से मुक्ति दिलाने के साथ प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत बनाती हैं। आपको बताते चलें कि स्मूदी को बनाने के लिए दो बड़ी चम्मच अलसी के बीज, 1 कप फ्लेप वर्ड सोया दूध, एक कप दरदरे कटे स्ट्रॉबर्री आधा कप केला शेक और 2 चम्मच शहद को मिलाकर दिन में दो बार सेवन करे। इस स्मूदी के कई उपचारिक लाभ है।