सऊदी अरब ने हज करने के लिए जारी किए दिशा-निर्देश, इम्यूनिटी के आधार पर मिलेगा प्रवेश


आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा




अप्रैल के अंत में मुस्लिम धर्म के पाक महीने रमजान की शुरुआत होने जा रही है। कोरोना के चलते सऊदी अरब सरकार ने रमजान में मक्का आने वाले हाजियों के लिए गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। इस बार हज के लिए आने वाले उन्हीं जायरीन को प्रवेश की अनुमति दी जाएगी जो कि इम्यूनाइज़ हैं। बता दें, सऊदी अरब के हज एवं उम्रह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार इस बार मक्का की ग्रैंड मस्जिद में उन्हीं लोगों को प्रवेश की अनुमति मिलेगी जो कि इम्यूनिटी के अनुसार फिट होंगे। आगे कहा गया, ऐसे व्यक्ति जो कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज ले चुके हैं, या एक डोज कम से कम 14 दिन पहले ले चुके हैं, या फिर जो कोरोना के संक्रमण के बाद ठीक हो चुके हैं। मालूम हो, इस माह के अंत में यह नियम कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए लागू होंगे। हांलाकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि आखिर कब तक ये नियम लागू रहेंगे। गौरतलब है, भारत से भी लाखों की तादाद में मुसलमान मक्का- मदीना पहुंचकर इस्लाम की पवित्र यात्रा में शिरकत करते हैं। इस यात्रा को “हज” कहा जाता है और इससे लौटने वाले व्यक्ति के नाम के आगे “हाजी” लग जाता है। कोरोना के मद्देनजर सऊदी अरब सरकार ने मक्का आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए कड़े दिशा-निर्देश जारी किए हैं। बता दें कि बीते साल कोरोना के ही कारण सऊदी अरब में रहने वाले 10 हजार मुस्लिम लोगों को ही हज में हिस्सा लेने की अनुमति मिली थी। हालांकि यह अभी साफ नहीं है कि क्या यह दिशा-निर्देश इस वर्ष के अंत में वार्षिक हज यात्रा के लिए के लिए भी लागू रहेंगे या नहीं। गौरतलब है कि, सऊदी अरब में अभी तक कोविड-19 के 393,000 मामले सामने आए हैं और संक्रमण से 6,700 लोगों की मौत भी हुई है। यहां के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि उसने 3.4 करोड़ से अधिक आबादी वाले देश में 50 लाख से अधिक कोविड-19 वैक्सीन लगाई हैं।