ड्रैगन ने भरी पड़ोसी देशों को चाबी

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



अनिल निगम
anilkrnigam@gmail.com

कोरोना वायरस को फैलाने का जिम्मेदार माने जाने वाला देश चीन भारत को हर तरह से घेरने की फिराक में हैं। वह कूटनीतिक तरीके से पड़ोसी देशों को भारत के खिलाफ भड़काने और उकसाने के काम में जुटा हुआ है। वह इसकी बाबत साम, दाम, दंड और भेद की नीति अपना कर भारत को कमजोर करने की साजिश कर रहा है। इसी का परिणाम है कि कुछ पड़ोसी देश भारत के खिलाफ सुर बदलने लगे हैं।
ड्रैगन की साम्राज्य वादी नीति से संपूर्ण विश्वै बखूबी परिचित है। पहले उसने पाकिस्तािन और चीन को ऋण और विकास का लालच देकर अपने जाल में फंसाया और फिर भारत के खिलाफ भड़काया। अब यही काम उसने भारत के पुराने मित्र नेपाल पर डोरे डालकर किया है। नेपाल ड्रैगन के ही इशारे पर भारत के खिलाफ लगातार विष वमन कर रहा है। गलवान घाटी में मुंह की खाने के बाद अब चीन बांग्लाकदेश और भूटान को भी भारत के खिलाफ भड़काने की कोशिश कर रहा है। सवाल यह है कि आखिर ड्रैगन भारत के पड़ोसी देशों को क्योंन भड़का रहा है? पड़ोसी देशों का हितैषी बनने का दम भरने वाले चीन का असली चरित्र क्यां है? वह भारत से सीधे वार्ता या युद्ध करने की जगह भारत को घेरने की रणनीति क्यों अपना रहा है? काबिलेगौर है कि नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली का चीन के प्रति झुकाव अब सर्वविदित है। केपी ओली ने कवि भानुभक्त के जन्मदिन पर यह बयान देकर कि असली अयोध्या नेपाल के बीरगंज के पास एक गांव है, जहाँ भगवान राम का जन्म हुआ था, सभी को भौचक्का कर दिया। उन्होंाने कहा कि कवि भानुभक्त ने नेपाली भाषा में रामायण लिखी थी। साथ ही यह भी दावा किया कि हमें सांस्कृतिक रूप से दबाया गया है। हालांकि नेपाल और भारत की जनता के आक्रोश को देखते हुए बाद में उन्हों ने अपने इस बयान पर लीपापोती कर डैमेज कंट्रोल करने की कोशिश भी की। यही नहीं, चीन नेपाल के प्रधानमंत्री को आर्थिक सहायता भी दे रहा है। ग्बोलब वॉच एनालिसिस की रिपोर्ट में आश्चार्यजक बात सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले कुछ समय में नेपाल के प्रधानमंत्री की संपत्तीब में द्रूत गति से वृद्धि हुई है। इसके अलावा उनकी विदेश में भी कई संपत्तियां होने का दावा किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि केपी शर्मा ओली का स्विजरलैंड स्थित जेनेवा में मिराबॉड बैंक में एक खाता है। इस खाते में हाल ही में लगभग 48 करोड़ रुपये जमा कराए गए हैं। इस जमा धनराशि से ओली को सालाना 3.5 करोड़ रुपये का लाभ प्राप्त होता है। इस रिपोर्ट से भारत की भौंवें तनना और माथे पर लकीरें उभरना स्वरभाविक है। यह सर्वविदित है कि ड्रैगन अनेक प्रलोभन देकर पाकिस्तान और श्रीलंका की हालत पहले ही खराब कर चुका है। दोनों ही देशों को ऋण देने का लालच देकर देकर फंसाया। अब वह बांग्लादेश को ऐसे ही जाल में फंसाने की कोशिश कर रहा है। चीन ने बांग्लादेश को कर छूट का लालच दिया है। उसने कहा है कि 5,161 सामान जिनका चीन और बांग्लादेश व्यापार करते हैं उसमें 97 फीसदी तक कर की छूट दी जाएगी।
इतिहास इस बात का साक्षी रहा है कि साम्य वादी देश का चरित्र बेहद दोगला और धोखेबाज देश वाला रहा है। भारत ने वर्ष 1947 यानी आजादी के बाद से ही चीन की तरफ लगातार दोस्ती का हाथ बढ़ाया। लेकिन चीन ने भारत को हमेशा धोखा दिया। इसी वर्ष लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) के पास भारतीय सैनिकों से चीनी सैनिक जानबूझकर भिड़ गए। दोनों पक्षों के बीच हुई झड़पों में कई भारतीय सैनिक शहीद हो गए। भारत ने 1954 में दोनों देशों के बीच परस्पLर रिश्ते मजबूत करने के उद्देश्यै से चीन के साथ पंचशील संधि की। तत्कासलीन प्रधानमंत्री पंडित नेहरू ने 'हिंदी-चीनी भाई-भाई' का नारा भी दिया लेकिन चीन ने इस प्रेम और विश्वास को धूल में मिलाते हुए 1962 में भारत पर आक्रमण कर दिया था। इसी तरह से चीन आतंकवाद के मसले पर हमेशा पाकिस्ता न के साथ खड़ा नजर आया। चीन बार-बार भारत को यह भरोसा दिलाता रहा कि वह वास्तमविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) का सम्मा न करेगा परंतु उसने ऐसा नहीं किया बल्कि 2017 में डोकलाम में चीन की घुसपैठ उसकी चालबाजी का एक और उदाहरण है। इसके अलावा गलवान घाटी में उसके द्वारा की गई घुसपैठ हालिया जीवंत उदाहरण है जिसमें उसने एलएसी का सम्माघन करने की जगह भारत को एक बार फिर धोखा देते हुए भारतीय सैनिकों पर हमला बोल दिया।
उपयुर्क्तर प्रसंगों से यह पता चलता है कि चीन का चरित्र धोखेबाज और साजिश करने वाले देश वाला रहा है। उसने हाल ही में पहले गलवान घाटी में एलएसी का उल्लंाघन करते हुए भारतीय सीमा में घुसपैठ की, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए। लेकिन भारत के आक्रामक तेवरों और वैश्विीक माहौल के कारण थोड़ा ठिठक गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्वव वाली भारत सरकार ने ड्रैगन की घुसपैठ का जवाब कई तरह से दिया है। उसने चीन के 59 एैप्सर पर भारत में प्रयोग किए जाने पर रोक लगा दी। भारत के निर्माण एवं विकास कार्यों में चीनी कंपनियों के अनेक ठेकों को रद्द कर दिया। इसके अलावा संपूर्ण देश में चीन के खिलाफ आक्रोश पैदा हो गया और व्या पारियों, उद्यमियों और आम जनता ने चीनी उत्पा दों का बहिष्कावर करने की घोषणा कर दी। प्रधानमंत्री ने सीमा पर जाकर सुरक्षा तैयारियों का जायजा लिया और कहा कि अगर चीन हमला करता है तो भारत उसका मुंह तोड़ जवाब देगा। चीन के रुख को देखते हुए अमेरिका ने उसकी चारों ओर से सै‍न्य घेराबंदी कर दी। भारत के तीखे तेवरों और वैश्विक महाशक्तियों के रवैया के चलतें चीन की चूलें हिल गईं हैं। साम्येवादी चीन यह अच्छीर तरह जानता है कि वह भारत से सीधे-सीधे युद्ध नहीं कर सकता। इसलिए वह पड़ोसी देशों को लालच का चारा डालकर भारत के खिलाफ भडका रहा है। भारतीय उप महाद्वीप में बांग्लाोदेश, श्रीलंका, म्यांहमार, नेपाल और भूटान भारत के लिए सामरिक दृष्टि से अत्यं त महत्वचपूर्ण देश हैं और इन देशों से भारत के परस्पकरिक संबंध दोस्ताअनापूर्ण रहे हैं। इसलिए पड़ोसी देशों को प्रलोभन देकर भारत के खिलाफ माहौल तैयार करने की चीन की कूटनीति का भारत को पर्दाफाश तो करना ही होगा साथ ही पड़ोसी देशों के मन मस्ति‍ष्क में यह धारणा जमानी होगी कि उनका असली हितैषी चीन नहीं बल्कि भारत है।
(लेखक आईआईएमटी न्यूरज के संपादक हैं)