आईआईएमटी में 30 करोड़ की लागत से बनेगा स्किल सेंटर,हर साल दो हजार विद्यार्थी होंगे प्रशिक्षित

आईआईएमटी न्यूज़ डेस्क, ग्रेटर नोएडा



ग्रेटर नोएडा शहर के नॉलेज पार्क स्थित आईआईएमटी कॉलेज ऑफ इंजिनियरिंग ने फ्रांस की राफेल बनाने वाली कंपनी डसॉल्ट और अमेरिका की स्मार्ट सिटी डवलेपमेंट करने वाली कंपनी पीटीसी, और अमेरिका की ही सीएनसी सॉफ्टवेयर कंपनी मास्टरकेम के सिस्टम इंटिग्रेटर पुणे स्थित डीसीएस प्राइवेट लिमिटेड के बीच एमओयू पर साइन किया। आईआईएमटी और इन तीनों कंपनीयों के बीच हुए करार के अनुसार, कॉलेज कैंपस में अंदर 30 करोड़ रुपये की लागत से स्किल और एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट सेंटर का निर्माण किया जाएगा।
फाइटर जेट प्लेन के डिजाइन बनाने का मिलेगा प्रशिक्षणः राफेल लडाकू विमान बनाने वाली कंपनी डसॉल्ट भारतीय वायु सेना में जाने वाले इच्छुक छात्र एवं छात्राओं को जहाज बनाने के डिजाइन से लेकर उसे बनाने में काम आने वाली तकनीक का प्रशिक्षण दिया जाएगा।
वोकल फॉर लोकल की थीम पर होगा कामः देश में जो छात्र ऑटोमोबाइल सेक्टर में खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं, उनके लिए व्यापक स्तर पर काम किया जाएगा। साथ ही स्मार्ट सिटी डिजाइन करने का कौशल भी विद्यार्थियों में विकसित किया जाएगा।

इलेक्ट्रिक गाड़ियों का है फ्यूचरः पेट्रोल और डीजल की कारों का प्रचलन तेजी से हो रहा है। इसी को देखते हुए विद्युत वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशन की जरूरत पड़ेगी, इस संबंध में भी छात्रों को जानकारी दी जाएगी। इसके अलावा बच्चे इन लैब के अंदर मोबाइल फोन बनाने की ट्रेनिंग लेंगे। साथ ही तीनों कंपनियां बच्चों को पलेसमेंट में भी सहायता करेंगी।
कॉलेज के प्रबंध निदेशक मयंक अग्रवाल ने बताया कि उत्तर प्रदेश में आईआईएमटी पहला प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज है, जिसने इस तरह का एमओयू साइन किया है। इस सेंटर के अंदर प्रत्येक वर्ष 2000 से अधिक बाहर के बच्चे भी तकनीक की बारिकियों को समझ सकेंगे। इस मौके पर कॉलेज के एमडी मयंक अग्रवाल, आर एंड डी सेल के डीन डॉ0 संजय पचौरी, रिसर्च साइंटिस्ट मयंक राज, फाइनेंस कंट्रोलर नीरज मित्तल, डीसीएस के अनुज शर्मा, डीसीएस के राहुल नायडू मौजूद रहे।