बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी ने निधि से निकाली एम्बुलेंस, जांच में हुआ खुलासा

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



पूर्वांचल के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को पंजाब के मोहाली कोर्ट में पेशी के लिए ले जाने वाली एम्बुलेंस की जांच कर बड़ा खुलासा किया गया है। एम्बुलेंस विधायक निधि से खरीदी गई है। बता दें कि, जिस अस्पताल के नाम पर खरीदी गई उसका कोई ठिकाना नहीं है। मुख्तार ने बीमार और जरूरतमंदो के लिए एम्बुलेंस को बाराबंकी आरटीओ से रजिस्टर्ड करवाया था। जांच में मिली जानकारी के अनुसार मुख्तार ने एम्बुलेंस को मोडीफाई करवाकर बुलेट प्रूफ बनवाया है। पूर्व डीजीपी एके जैन ने इस पूरे मामले का पर्दाफाश किया है। मुख्तार अंसारी ने अपने फायदे के लिए एम्बुलेंस का प्रयोग किया, जिसमे श्याम संजीवनी हॉस्पिटल की मालिक अल्का राय की मदद से रजिस्टर्ड करवाया था। अल्का ने बताया कि 2009-10 में विधायक मुख्तार ने एंबुलेंस के कागजात भेजे थे। अल्का के भाई संजीवनी अस्पताल के डायरेक्टर है जिनके द्वारा उस फ़ाइल पर हस्ताक्षर किए गए थे। बाराबंकी आरटीओ ने बताया कि वर्ष 2015 में यूपी-41 एटी- 7171 का रजिस्ट्रेशन करवाया गया था। 2017 में इसका रजिस्ट्रेशन एक्सपायर हो चुका है। उन्होंने बताया कि 20 जनवरी 2020 को रिन्युअल के लिए नोटिस भेजा गया था। पुलिस की टीम बाराबंकी के रफीनगर मुहल्ले में जांच के लिए पहुंची। वहां न कोई अस्पताल था और न ही अल्का थी। स्थानीय लोगों ने बताया कि अल्का काफी समय से रहती है, लेकिन संजीवनी अस्पताल यहां पर नहीं है। पुलिस ने मामले की पड़ताल शुरू कर दी है।