तालिबान के नक्शे कदम पर पाकिस्तान, महिला शिक्षकों के जींस और टी-शर्ट पहनने पर प्रतिबंध

आईआईएमटी न्यूज़ डेस्क, ग्रेटर नोएडा



पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पहनावे को बलात्कार से हमेशा जोड़कर देखते है। इसी कड़ी में अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार का गठन होते ही पाक की महिलाओं का पहनावा उनके निशाने पर आ गया है। या फिर यह कहा जा सकता है कि पाकिस्तान भी तालीबान के शरीयत कानून को अपने देश में लागू करने जा रहा है।
सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के शिक्षा निदेशालय ने महिला शिक्षकों के जींस और चुस्त कपड़े पहनने पर रोक लगा दी है। साथ ही पुरुष अध्यापक टी-शर्ट पहनकर शिक्षण संस्थानों में नहीं जा सकते है। पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, इस संबंध में शिक्षा निदेशक ने सोमवार को स्कूल और कॉलेजों के प्रिंसिपल्स को एक पत्र भेजा है। बताया गया कि शिक्षक महिला हो या पुरुष दिए गए निर्देशों का पालन करें। दूसरी तरफ इसको लेकर शिक्षकों में काफी अक्रोश देखने को मिला। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान में इमरान का नहीं तालिबान का शासन चलने लगा है। जानकारी के मुताबिक संघीय शिक्षा निदेशालय के नियमों के मुताबिक नियमित बाल कटवाए, दाढ़ी बनवाए, नाखून काटते रहे। इसके अलावा इत्र और नियमित स्नान करने की बात भी कही गई है। पत्र में स्पष्ट लिखा गया है कि किसी स्कूल कॉलेज या ऑफिस में इन नियमों का पालन करने के बाद ही प्रवेश करें। नियम के विरुद्ध चलने वालों के लिए दण्ड का प्रावधान है। बता दें कि पत्र में सिफारिश की गई कि किसी भी प्रयोगशाला में लैब कोट के अंदर टीचिंग गाउन पहनकर कार्य करें। इसके साथ ही गेट पर तैनात गार्ड व अन्य कर्मचारियों के लिए ड्रेस निर्धारित की गई है। महिला शिक्षकों को जींस या टाइट कपड़े पहनने की इजाजत नहीं है केवल साधारण और सभ्य सलवार कमीज, दुपट्टा/शॉल के साथ आना होगा। जानकारी के मुताबिक महिलाओं को पर्दे के साथ रहना अनिवार्य होगा, इसके अलावा नियम पालन करने वाली महिलाओं को स्कार्फ पहनने की अनुमति दी जाएगी। सर्दियों के मौसम में, महिला शिक्षक सभ्य रंगों और डिजाइन के कोट, ब्लेज़र, स्वेटर, जर्सी, कार्डिगन और शॉल पहन सकती हैं।