राकेश टिकैत का विवादित बयान, कहा- अफगानिस्तान में खुलेआम तालिबान जबकि यहां पर्दे के पीछे

आईआईएमटी न्यूज़ डेस्क, ग्रेटर नोएडा।



बीते एक वर्ष से भी अधिक समय से कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने रविवार को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में महापंचायत का आयोजन किया था। इस महापंचायत में पांच लाख से अधिक किसानों के शामिल होने का दावा किया गया है। इस दौरान खूब भाषणबाजी भी हुई। वहीं, भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अफगानिस्तान में खुलेआम तालिबान है जबकि यहां पर्दे के पीछे तालिबान है। किसान नेता के इस बयान के बाद विवाद छिड़ गया है। भारतीय जनता पार्टी ने उनके इस विवादित बयान पर प्रतिक्रिया दी है। इसके अलावा राकेश टिकैत ने तालिबान की तुलना मोदी सरकार से करते हुए कहा कि हिंदुस्तान की सरकार और तालिबान एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बाहरी बता दिया।
किसान नेता के इन्हीं बयानों पर भारतीय जनता पार्टी की ओर से पलटवार किया गया है। यूपी बीजेपी के प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा है कि मियां खलीफा, ग्रेटा थनबर्ग और रेहाना से समर्थन जुटाने वाले टिकैत मोदी, शाह और योगी को बाहरी बता रहे हैं, ये मानसिक दिवालियापन है। महापंचायत के मंच से हर वक्ता ने एक ही बात कही कि सरकार किसानों से बात नहीं कर रही। इस पर बीजेपी किसान मोर्चा ने मंच में बैठे लोगों पर ही सवाल खड़े कर दिए।
वहीं, इस महापंचायत का समर्थन करते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट किया है।
राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा, ''गूंज रही है सत्य की पुकार, तुम्हें सुनना होगा, अन्यायी सरकार!'' उधर, प्रियंका गांधी ने लिखा, "किसान इस देश की आवाज हैं. किसान देश का गौरव हैं। हक मांगने की लड़ाई में पूरा देश किसानों के साथ।''