अब तक जारी है भारत और पाकिस्तान के बीच 28 साल पुरानी परंपरा

मो.इसराफिल खान,
आईआईएमटी न्यूज, ग्रेटर नोएडा। नए साल के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने सभी पड़ोसी देशों के प्रमुखों से बात कर उन्हे नववर्ष की बधाई दी। वहीं उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से नए साल पर बात नहीं की। जिसे भारत का पाकिस्तान के प्रति कड़े रवैये के तौर पर देखा जा रहा है। दूसरी तरफ 28 साल से चली आ रही परंपरा को जारी को दोनों देशों के बीच इस साल भी जारी रखा। यह परंपरा भारत और पाकिस्तान के बीच 1 जनवरी 1992 से एक परंपरा चली आ रही है।



इसके तहत दोनों देश एक जनवरी और एक जुलाई को कूटनीतिक माध्यमों से अपनी जेलों में बंद कैदियों की सूची और परमाणु ठिकानों की जानकारी एक- दूसरे को देते हैं। यह परंपरा इस साल भी जारी रही। भारत ने अपनी हिरासत में मौजूद 267 पाकिस्तानी असैन्य कैदियों और 99 मछुआरों की सूची पाकिस्तान को दी। जबकी पाकिस्तान ने भारत को 55 असैन्य नागरिक और 227 मछुआरों की सूची सौंपी। बता दें कि इस सूची का आदान-प्रदान 2008 के एक समझौते के प्रावधानों के तहत साझा किया जाता है।