राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एससी में 9 जजों की नियुक्ति को मंजूरी दी, 2027 में देश को मिलेगी पहली महिला मुख्य न्यायाधीश

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की 9 सीजेआई महिलाओं के नामों की मंजूरी दे दी है। जानकारी के मुताबिक 9 नामों में आठ जज और एक वकील शामिल है। सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में नियुक्तियों के लिए सीजेआई एन.वी. रमना ने 9 नामों की लिस्ट पर केंद्र की मंजूरी मांगी थी, गुरूवार को सभी सीजेआई महिलाओं की लिस्ट पर केंद्र ने मंजूरी दे दी है। इस लिस्ट में एक नाम न्यायमूर्ति बीवी नागरत्ना का शामिल है। जो भारत की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश नियुक्त होने की कतार पर है। एन.वी. रमना ने बताया कि सीजेआई फाइल को औपचारिकता के अनुसार राष्ट्रपति के पास भेज दी गई है। उनका कहना है कि प्रक्रिया सही हुई तो बहुत जल्द 9 न्यायाधीश सुप्रीम कोर्ट में शपथ ग्रहण करेंगे। बता दें कि 9 नामों में आठ बार एशोसिएशन के जज और एक वकील के नाम शामिल है। इस लिस्ट में कर्नाटक के मुख्य न्यायाधीश ए.एस. ओका शामिल है। बता दें कि ओका मुख्य न्यायाधीशों में सबसे वरिष्ठ न्यायधीश है। इसी कड़ी में गुजरात के मुख्य न्यायाधीश विक्रम नाथ, सिक्किम के मुख्य न्यायाधीश जे.के. माहेश्वरी, तेलंगाना की मुख्य न्यायाधीश हिमा कोहली भी इस लिस्ट में शामिल हैं। हिमा कोहली हाईकोर्ट की एकमात्र सेवारत महिला मुख्य न्यायाधीश हैं। इसके अलावा केरल हाईकोर्ट की न्यायाधीश न्यायमूर्ति नागरत्ना, मद्रास HC के न्यायाधीश न्यायमूर्ति सी.टी. रवि कुमार, न्यायमूर्ति एम.एम. सुंदरेश, न्यायमूर्ति बेला एम. त्रिवेदी और वरिष्ठ अधिवक्ता पीएस नरसिंह का नाम सिफारिश में शामिल था।