मुस्लिम पत्नी का सिख पति पर इस्लाम धर्म अपनाने का दबाव, जान से मारने की भी धमकियां

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



चंडीगढ़ के अमृतसर से बेहद ही अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। जहां अपनी पत्नी से परेशान एक युवक ने जिला अदालत में जबरन धर्मांतरण के खिलाफ याचिका दाखिल की है। दरअसल, अमृतसर निवासी तरलोचन सिंह ने वर्ष 2008 में एक मुस्लिम युवती से शादी रचाई थी। शादी से पूर्व दोनों के बीच प्रेम संबंध स्थापित थे। इसके बाद युवती का परिवार युवक पर इस्लाम कबूल करने के लिए दवाब बनाने लगा जिससे परेशान होकर तरलोचन अपनी पत्नी को लेकर दिल्ली चला गया। हालांकि वर्ष 2015 में तरलोचन अपनी पत्नी के साथ अमृतसर वापस आकर अपने पैतृक घर में रहने लगा। यहां आते ही उसकी पत्नी ने चंडीगढ़ जाकर रहने का दवाब बनाना शुरु कर दिया। जिसके बाद युवक अपनी पत्नी और बच्चे के साथ पत्नी के मायके में रहने लगा। इस दौरान युवक की पत्नी और उसके परिवार के लोगों ने मिलकर युवक पर धर्मांतरण का दवाब बनाना शुरु कर दिया।
युवक द्वारा दर्ज की गई याचिका के मुताबिक पत्नी के परिवार ने कई बार उसे पगड़ी उतारने और बाल कटवाने के लिए दवाब बनाना शुरु कर दिया। इसके अलावा ससुराली पक्ष ने उनके बेटे को भी इस्लाम धर्म अपनाने को मजबूर करने लगे। तरलोचन सिंह ने याचिका में आगे कहा, ससुराल पक्ष ने उन्हें घर से निकाल दिया साथ ही उनके बेटे को भी अपने पास रख लिय़ा है। इतना ही नहीं, उन्हें लगातार जान से मारने की धमकियां भी मिल रही हैं।
गौरतलब, गुरुवार को सिख युवक की याचिका पर सुनवाई के दौरान सिविल जज रसवीन कौर ने आरोपी पक्ष को नोटिस जारी कर 20 जुलाई तक जवाब मांगा है।