14 अगस्त को “विभाजन विभीषिका स्मृति” के तौर पर मनाया जाएगा,पीएम मोदी ने किया ऐलान

ऋुतुराज, आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



आजादी के एक दिन पहले ही भारत से अलग होकर 14 अगस्त को पाकिस्तान एक अलग देश बन गया था। इस दौरान हुए विभाजन में काफी दंगे हुए थे। लाखों लोगों को घर से बेघर होना पड़ा था। यहां तक की लोगों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी थी। इस बीच शनिवार को भारत के पीएम नरेंद्र मोदी ने ऐलान किया हैं कि 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के तौर पर मनाया जाएगा।
पीएम मोदी ने 14 अगस्त को याद करते हुए कहा ‘देश के बंटवारे के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता। हिंसा और नफरत के कारण ही हमारे लाखों भाइयों और बहनों को विस्थापित होना पड़ा और अपनी जान तक गंवानी पड़ी। उन लोगों के संघर्ष और बलिदान की याद में 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के तौर पर मनाने का निर्णय लिया गया है।‘
पीएम मोदी ने आगे कहा ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ का यह दिन हमें भेदभाव, वैमनस्य और दुर्भावना के जहर को खत्म करने के लिए न केवल प्रेरित करेगा, बल्कि इससे एकता, सामाजिक सद्बाव और मानवीय संवादनाएं भी मजबूत होगी। यह घटना 20वीं सदी के सबसे बड़ी घटनाओं में से एक मानी जाती है।
लाखों लोगों बंटवारे के समय मारे गए थे और इस लड़ाई में अधिक दर्द महिलाओं ने झेला था। पाकिस्तान के मुस्लिमों ने हिंदुओं व सिखों के घरों और जमीनों पर कब्जा कर लिया था और उन्हें भारत चले जाने को कहा जाता था ऐसा न करने पर मार दिया जाता था।