राहुल गांधी के फेसबुक और इंस्टाग्राम एकाउंट पर गहराया संकट, राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने लिखी चिट्ठी

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा




दिल्ली के पुराना नांगल गांव में 9 वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म और हत्या की घटना पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीड़िता के माता-पिता से बीते दिनों मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने पीड़िता के परिजनों के साथ ली गई तस्वीरों को सोशल मीडिया पर साझा किया था जिसके बाद ट्विटर ने उनके एकाउंट को लॉक कर दिया था। इसके अलावा गुरुवार को कांग्रेस के ऑफिशियल एकाउंट पर भी ट्विटर ने ताला मार दिया साथ ही 30 कांग्रेसी नेताओं के भी ट्विटर हैंडल बंद कर दिए गए हैं।
इसी सिलसिले में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने फेसबुक और इंस्टाग्राम को भी नोटिस जारी कर राहुल गांधी के एकाउंट के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। इस नोटिस में आयोग ने पॉक्सो एक्ट के तहत पीड़िता या उसके परिजनों की पहचान न उजागर करने का कानून होने का हवाला देते हुए कार्रवाई की मांग की है।
बता दें, इससे पहले राहुल के ट्विटर हैंडल पर हुई कार्रवाई के पीछे भी राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग का ही हाथ है। आयोग ने ट्विटर को शिकायत पत्र जारी कर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।
गौरतलब है, ट्विटर द्वारा की गई इस कार्रवाई पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज शुक्रवार को प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा, ''मेरे ट्विटर को बंद करके वो हमारी राजनीतिक प्रक्रियाओं में दखल दे रहे हैं। ये देश के लोकतांत्रिक ढांचे पर एक हमला है, ये राहुल गांधी पर हमला नहीं है। मेरे 19-20 मिलियन फॉलोअर्स हैं, आप उन्हें नकार रहे हो।''