बातचीत के अलावा चीन के लिए सैन्य विकल्प भी मौजूदः सीडीएस जनरल बिपिन रावत

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



पूर्वी लद्दाख में पिछले कई महीनों से जारी भारत-चीन सीमा विवाद पर सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि अगर बातचीत से चीन के साथ सीमा विवाद नहीं सुलझता है तो भारत के पास सैन्य विकल्प भी तैयार है। यह बात उन्होंने एक अखबार से कही। जनरल रावत ने आगे कहा है कि 'वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर गतिरोध अलग-अलग धारणाओं के कारण होते हैं। रक्षा सेवाओं को ऐसे अभियानों पर निगरानी रखने और घुसपैठ को रोकने का काम सौंपा जाता है। ऐसी किसी भी गतिविधि का शांतिपूर्वक हल करने और घुसपैठ को रोकने के लिए सरकारी दृष्टिकोण अपनाया जाता है। उन्होंने इस बात को भी नकार दिया कि प्रमुख खुफिया एजेंसियों के बीच समन्वय की कमी है। इससे पहले शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एनएसए और तीन सेना प्रमुखों के साथ लद्दाख में एलएसी पर चीन के साथ जारी गतिरोध पर चर्चा की। वहीं इससे पहले 15 अगस्त यानि भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो टूक शब्दों में कहा था कि “एलओसी से लेकर एलएसी पर जिसने भी भारत की संप्रभुता की तरफ आंख उठाकर देखा है देश की सेना ने उसका उसकी भाषा में जवाब दिया है।