कोरोना संक्रमितों के इलाज का पूरा खर्च उठाएगी यूपी सरकार

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



राज्य में बढ़ते केरोना संक्रमण के मामलों के बीच सूबे की सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। अब प्रदेश में जिन कोरोना संक्रमितों का इलाज प्राइवेट असेपतालों में किया जाएगा उनका पूरा खर्च राज्य सरकार उठाएगी। सोमवार को सूचना विभाग के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना पीड़ितों के इलाज का खर्च उठाने का निर्णय लिया है। किसी भी गरीब कोरोना संक्रमित व्यक्ति का निजी अस्पताल में इलाज होने पर सूबे की सरकार आयुष्मान योजना के तहत इलाज के संपूर्ण खर्च का भुगतान करेगी। उन्होंने आगे बताया कि सीएम योगी ने 100 बेड से अधिक क्षमता वाले प्रत्येक हॉस्पिटल में ऑक्सीजन प्लान्ट लगाने के निर्देश भी दिए हैं। वहीं, प्रदेश के 39 अस्पतालों में मशीनों का उपयोग शुरु कर दिया गया है।
अखिलेश यादव ने आक्सीजन संकट पर सीएम योगी पर साधा निशाना
यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने रविवार को ट्वीट कर योगी सरकार पर निशाना साधते हुए मांग की थी कि प्रदेश सरकार कोविड-19 की मुफ्त जांच कराने के साथ साथ फ्री में टीका और संक्रमितों के मुफ्त इलाज की व्यवस्था करे। उन्होंने लिखा, “सपा की माँग, मुफ़्त जाँच। मुफ़्त टीका, मुफ़्त इलाज। कोरोना के भयावह काल में जब उत्तर प्रदेश व देश दवाओं व ऑक्सीजन तक के लिए तड़प रहा है, कालाबाज़ारी की ख़बरें सरकार की नाकामी का प्रतीक हैं। सपा टीके के दामों में एकरूपता की जगह देशभर में त्वरित व मुफ़्त टीकाकरण की माँग करती है। उप्र के ज़िम्मेदार पद पर बैठे लोग गैर-ज़िम्मेदार बयानबाज़ी न करें और लोगों की संपत्ति ज़ब्त करने की धमकी से जनता का मुँह बंद करने की कोशिश न करें”। उन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोलते हुए कहा, “अफ़वाह भाजपा सरकार फैला रही है कि ऑक्सीजन की कमी नहीं है। सड़कों की तस्वीर झूठ नहीं बोलती... मान्यवर कृपया अपनी बंद ऑंखें खोलें”!