गूगल ने जाहिर की हुवावे पर से बैन हटाये जाने की मंशा

हुवावे कंपनी पर लगाये गये बैन को लेकर गूगल ने अमेरिकी सरकार के सामने हुवावे पर लगाए गए बैन को हटाने की मंशा जाहिर की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गूगल ने अपने एंड्रॉइड ओएस के लिए हुवावे की निर्भरता के बारे में काफी तर्क दिया है, जिसमें ये कहा गया है कि गूगल द्वारा हुवावे को सेवाएं देते रहना अमेरिका के लिए अच्छा है।

बैन को हटाने के लिए सवाल पर ,गूगल ने कहा है कि कि हुवावे प्रतिबंध कंपनी के प्रौद्योगिकी व्यवसाय के साथ-साथ राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बुरा है। साथ ही गूगल को यह भी डर है कि कही निर्यात प्रतिबंध यूएस-निर्मित एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) के लिए एक प्रतियोगी पैदा ना कर दे। क्योंकि इस से गूगल को एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम में जमाये एकाधिपत्य को कड़ी चुनौती मिल सकती है।



इससे पहले मई में, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा बता हुवावे पर लगाए गए प्रतिबंध के आदेश के साथ, गूगल ने हुवावे के एंड्रॉइड लाइसेंस को निरस्त कर दिया था। इसके साथ ही क्वालकॉम, माइक्रोसॉफ्ट, इंटेल, और यूके स्थित चिप डिजाइनर एआरएम सहित कई कंपनियों ने चीनी कंपनी के साथ अपने कारोबार को बंद कर दिया था।

शुक्रवार को बाद में सामने आई रिपोर्टों ने यह भी दावा किया कि सोशल नेटवर्किंग की दिग्गज कंपनी फेसबुक ने हुवावे स्मार्टफोन में अपने स्वामित्व के ऐप्स को प्री-इंस्टॉल करने से हुवावे को प्रतिबंधित करने का फैसला किया है।