100 करोड़ वसूली की गूंज से संसद में हंगामा, महाराष्ट्र सरकार बोली- अनिल देशमुख के इस्तीफे का सवाल ही नहीं

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



महाराष्ट्र में 100 करोड़ की वसूली की गूंज आज संसद में भी सुनाई दी। संसद के दोनों सदनों में इसको लेकर भारी हंगामा हुआ। इस मामले को लेकर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने राज्यसभा में कहा कि पूरे देश ने देखा है कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री वसूली कर रहे हैं। दूसरी तरफ बीजेपी के सांसद राकेश सिंह ने भी लोकसभा में महाराष्ट्र सरकार को जमकर घेरा। राकेश सिंह ने कहा यह पहली बार हुआ है कि एक पुलिस अधिकारी के समर्थन में सीएम ने प्रेस कॉन्फ्रैंस की, और इस अधिकारी को 100 करोड़ वसूली का टारगेट दिया था। इसी उथल-पुथल के बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा है कि देशमुख के इस्तीफे का सवाल ही पैदा नहीं होता है। जिस समय की मिटिंग का परमबीर सिंह जिक्र किया है, उस टाइम देशमुख अस्पताल में भर्ती थे। देश मुख के अस्पताल में भर्ती को लेकर बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने एक वीडियो ट्वीट किया है। ट्वीट के बाद मालवीय ने कहा है कि पवार कह रहे हैं अनिल देशमुख 5 से 15 फरवरी तक हॉस्पिटल में और 16 से 27 फरवरी तक क्वारनटीन में थे,जबकि देशमुख 15 फरवरी को ही प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे। इस वीडियो के जारी होने के बाद पवार घिरते हुए दिखाई दे रहे हैं। वहीं बीजेपी की तरफ से अनिल देशमुख के रिजाइन की मांग को लेकर शिवसेना ने भी कड़ा रूख अपना लिया है। संजय राउत ने चेतावनी देते हुए कहा है कि केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल कर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगान का षड़यंत्र किया जा रहा है। जो लोग ऐसा कर रहे है यह उनके लिए ठीक नहीं है, क्योंकि यह आग उन्हें भी जला देगी। गौरतलब है कि उद्धव ठाकरे को लिखे 8 पन्नों वाले लेटर में मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने आरोप लगाया है कि अनिल देशमुख ने कई बार अपने आवास पर पुलिस अधिकारियों को बुलाया है. उन्होंने मुंबई के बार, पब, रेस्तरां इत्यादि से 100 करोड़ रुपये उगाही का लक्ष्य दिया था।