ससुराल में महिला के साथ किसी भी मारपीट के लिए पति जिम्मेदारः सुप्रीम कोर्ट

मंयक त्रिपाठी, आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों पर कड़ा रुख अपनाते हुए एक शख्स द्वारा डाली गई अग्रिम जमानत याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा है कि सुसराल में पत्नी को लगी चोट के लिए पति जिम्मेदार होगा। दरअसल कोर्ट ने यह टिप्पणी उस याचिका की सुनवाई के दौरान कही जिसमें पुरूष की तीसरी और महिला की दूसरी शादी है। दोनों की शादी के एक साल बाद दंपत्ति को एक बेटा भी हुआ। इसके बाद महिला ने कथित तौर पर लुधियाना पुलिस के पास पति, ससुर और सास के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई की वह लोग उसके साथ मारपीट करते हैं और दहेज की मांग कर रहे हैं। सुनवाई के दौरान आप कैसे पति हैं। आप अपनी पत्नी को क्रिकेट के बैट से पीटते हैं। इस पर आरोपी के वकील ने कहा है महिला के पति ने कभी भी अपनी पत्नी को बैट से नहीं पीटा। आरोपी के पत्नी ने अपने ससुर पर बैट से मारपीट का आरोप लगाया है। इस पर सीजेआई बोबड़े ने कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि पति या पिता ने कथित तौर पर मारपीट के लिए बल्ले का उपयोग किया। इसके बाद बेंच ने पति की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया। को कर दी।