पठानकोट में माता नागाणी का चमत्कारी मंदिर, यहां जल औऱ मिट्टी का हैं महत्व।

आईआईएमटी न्यूज़ डेस्क, ग्रेटर नोएडा



पंजाब के पठानकोट में माता नागाणी का मंदिर चमत्कारी माना जाता है। बता दें कि, मंदिर में मिट्टी और जल से कई चमत्कार देखने को मिलते है। लाखों श्रद्धालु मंदिर में अपनी मुरादों को लेकर पहुंचते है। मान्यता के मुताबिक, नागमाता सुरसा की मूर्ति स्थापित है। ऐसा माना जाता है कि, जहरीले सर्प ने अगर किसी को काट लिया हो तो मंदिर की मिट्टी और जल के सेवन से उसका जहर नष्ट हो जाता है। आपको बता दें कि, मंदिर में जाने के लिए हवाई यात्रा से अमृतसर इंटरनेशनल हवाई अड्डा पहुंचा जाता है। अमृतसर से बस ट्रेन द्वारा 114 कि.मी का सफर तय किया जाता है। रेल मार्ग से पठानकोट रेलवे स्टेशन पहुंचकर 24 किमी की दूरी टैक्सी से तय की जा सकती है। बस की यात्रा से सीधा मंदिर के समीप नूरपुर पहुंचते है। ठहरने के लिए स्पेशल होटल और गेस्टहाउस आसानी से मिल जाएंगे। आपको बताते चले कि, शनिवार और मंगलवार में लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ एकत्रित होती है। प्रतिवर्ष सावन को विशाल मेला का आयोजन भी किया जाता है। मंदिर का सबसे बड़ा रहस्य निकटतम जलधारा से जुड़ा है।