पूर्व मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र की राजनीति का खोला रहस्य

मयंक त्रिपाठी, आईआईएमटी न्यूज़
पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र में 23 नवंबर को एनसीपी नेता की शपथ गृहण में चुप्पी तोड़ी है। तीन दिनों के अंदर ही दोनों नेताओं को इस्तीफा भी देना पड़ा था।



पूर्व मुख्यमंत्री ने पूरे घटनाक्रम का रहस्य खोलते हुए कहा कि एनसीपी नेता अजीत पवार ने 54 सीटों का भरोसा दिलाया था। उन्होंने यह भी कहा कि एनसीपी नेता ने सरकार बनाने को लेकर कुछ विधायकों से हमारी बात भी कराई थी। अजीत पवार ने कहा था कि वे भाजपा में शामिल होना चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि इस संबंध में शरद पवार से भी उन्होंने मुलाकात की।
वहीं, अजीत पवार का यह भी कहना था कि एनसीपी कांग्रेस का समर्थन नहीं करेंगी, हम स्थिर सरकार भाजपा को समर्थन करेंगे।
दूसरी तरफ, भाजपा नेता का कहना है कि अजीत का कदम उल्टा भी पड़ सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि महाराष्ट्र की राजनीती का असली चिट्ठा सामने आएगा।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चौहान का कहना है कि गठबंधन सरकार को संतुलित होने की जरूरत है।
उद्धव ठाकरे के संबंध से तीन गठबंधन पार्टियों की कमान उद्धव ठाकरे के हाथों में है।
अशोक चौहान ने यह भी कहा कि विरोध प्रदर्शन करने के लिए एक निश्चित समय तक गठबंधन का प्रकोप सामने आएगा।