लोधेश्वर धाम का चमत्कारी रहस्य

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा



बाराबंकी जिले का रामनगर स्थित लोधेश्वर धाम श्रद्धालुओं को मग्न-मुग्ध कर देता हैं। यह पर महाशिवरात्रि में विशाल मेले का आयोजन होता हैं। लाखों की संख्या में कांवडिया यहां पहुंचते हैं। सावन के महीने में बेलपत्र चढ़ाने के लिए इस मंदिर में श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगता हैं। मंदिर घाघरा नदी के तट पर स्थापित हैं। हवाई मार्ग से चौ. चरणसिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट लखनऊ पहुंचना पड़ता हैं। रेलमार्ग में लखनऊ और बाराबंकी से मंदिर आसानी से पहुंचा जा सकता हैं। बस से यात्रा करने के लिए आलम बाग बस स्टाप जाना पड़ता है। यह मंदिर लखनऊ एयरपोर्ट से 77 किमी दूर महादेव गांव में स्थित हैं। आलमबाग बस स्टेंड से 67 किमी और चारबाग रेलवे स्टेशन से 62 किमी दूर पड़ती हैं। बाराबंकी रेलवे स्टेशन से 33 किमी की दूरी पर लोधेश्वर धाम स्थित हैं। मान्यता के अनुसार कानपुर, बिठूर गंगा नदी से जल लेकर शिवरात्रि में शिवलिंग पर चढ़ाने के लिए दूर-दूर से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं।