स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में इंदौर बना भारत का सबसे स्वच्छ शहर

भारत

पीएम मोदी के महत्वाकांक्षी स्वच्छता मिशन के तहत प्रत्येक वर्ष कराए जाने वाले स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 के नतीजे आज घोषित कर दिए गए हैं। वहीं इस सर्वे में देश के लगभग 4000 से ज्यादा शहरों को शामिल किया गया है। बता दें कि मधयप्रदेश के इंदौर को लगातार पांचवी बार भारत का सबसे स्वच्छ शहर का दर्जा दिया गया है,तो वहीं गुजरात के सूरत को दूसरा स्थान मिला है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्वच्छ शहरों को स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार 2021 प्रदान कर रहे हैं। जबकि केंद्र सरकार के वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण में सबसे स्वच्छ गंगा शहर की श्रेणी में यूपी के वाराणसी को पहला स्थान दिया गया है।

भारत को गंदगी और कचरे से मुक्त बनाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के दृष्टिकोण के तहत केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा प्रत्येक वर्ष स्वच्छता सर्वेक्षण आयोजित किया जाता है। जिसमें शहरों में स्वच्छता की स्थिति को देखा जाता है। राष्ट्रपति कोविंद स्वच्छता मिशन के तहत कार्य करने वालों को नगर निगमों को सम्मानित भी कर रहे हैं। वहीं दिल्ली में आयोजित ‘स्वच्छ अमृत महोत्सव’ कार्यक्रम में महामहीम रामनाथ कोनिंद ने कहा, ‘देशवासियों की सोच में बदलाव, स्वच्छ भारत अभियान की बहुत बड़ी सफलता है। आज यह बदलाव व्यापक स्तर पर हुआ है। अब तो बहुत से परिवारों में छोटे बच्चे भी परिवार के बड़े लोगों को गंदगी फैलाने से रोकते हैं।’ उन्होंने फिर आगे कहा, वे बच्चे उन्हें कोई भी चीज सड़क पर फेंकने से टोकते हैं। ऐसे बदलाव के लिए मैं देशवासियों को बधाई देता हूं। स्वच्छता अभियान की सफलता के लिए मैं सफाई मित्रों और सफाईकर्मियों की विशेष रूप से सराहना करता हूं।


जानकारी के अनुसार केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने इस सर्वे में 342 शहरों को स्वच्छता और कचरा मुक्त के लिए स्टार रेटिंग दी है। इन शहरों के स्थानीय निकायों को यह सम्मान प्रदान किया जाएगा। जिसके लिए राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के विज्ञान भवन में ‘स्वच्छ अमृत महोत्सव’ का आयोजन किया जा रहा है। वहीं इसके अलावा सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज के तहत सेप्टिक टैंक और सीवर की सफाई के लिए अंदर आने वाले सफाई कर्मियों को सम्मानित भी किया जाएगा। सबसे बड़ी खास बात यह है कि इस काम के जोखिम में अपनी जान गंवाने वालों स्वच्छता कर्मियों को श्रद्धांजलि दी जाएगी।