शरीर को रखना है पूर्णतः हेल्दी तो डाइट में अपनाए ये आसान चीजों को

डाइट

शरीर को निरोग रखने के लिए स्वास्थ्य पर ध्यान देने की आवश्यक है। रोजमर्रा की डाइट में बदलाव करना पड़ सकता है। रोजमर्रा के खान-पान को सुधारना है तो डाइट में अमह वस्तुओं को अपनाने की आवश्यकता होगी। प्रदूषण, शराब, तनाव और स्मोकिंग के अलावा, डाइट एक ऐसी चीज़ है, जो उम्र बढ़ने और त्वचा के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। दूसरी तरफ, जहां प्रोसेस्ड फूड, चीनी और सैचूरेटेड फैट्स से भरपूर डाइट, मोटापे के जोखिम को बढ़ाती है। हालांकि, उम्र बढ़ने को रोका नहीं जा सकता, लेकिन खाने की कुछ ऐसी चीज़ें है जो इस प्रक्रिया को धीमा कर सकती हैं, जिससे 50 की उम्र के बाद दिखने वाले लक्षणों को कम कर सकती हैं। अगर आप भी बढ़ती उम्र की स्पीड को धीमा करना चाहते हैं, तो अपनी डाइट में इन 5 चीज़ों को ज़रूर लें।


पालक, केल, चार्ड और कोलार्ड साग जैसी हरी पत्तेदार सब्ज़ियों में प्रोटीन, आवश्यक विटामिन, कैल्शियम, स्वस्थ वसा, एंटीऑक्सिडेंट्स की भरपूर मात्रा होती है और साथ ही यह कैलोरी में भी कम होती हैं। इसे अपनी डाइट का हिस्सा बनाने से आपकी सेहत हमेशा स्वस्थ रहेगी।
मोती जैसे ये नीले रंग के छोटे-छोटे फल, विटामिन-सी और एंटीऑक्सिडेंट्स का एक पावरहाउस हैं, जो वज़न घटाने या उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में मददगार साबित होते हैं। उम्र बढ़ने के पीछे सेल्स को नुकसान पहुंचना सबसे बड़ी वजह है। 2012 में हुई रिसर्च और फिर 2020 में हुए रिव्यू के मुताबिक, यह पाया गया कि ब्लूबैरीज़ संज्ञानात्मक गिरावट में देरी करने में अहम रोल अदा कर सकती है।


बादाम, अखरोठ, काजू, ब्राज़ीलियन नट्स और ऐसे ही कई तरह के मेवे हर उम्र के व्यक्ति को किसी न किसी तरह फायदा ही पहुंचाते हैं। 50 साल की उम्र के बाद, प्रोटीन, विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट और स्वस्थ वसा के ये स्वादिष्ट स्रोत न सिर्फ वज़न घटाने को बढ़ावा देते हैं।
विटामिन बी, सी, फोलेट, स्वस्थ वसा, मैग्नीशियम, स्वस्थ वसा, एंटीऑक्सिडेंट और बीटा-कैरोटीन के साथ, ऐवाकाडो एंटी-एजिंग गुणों से भरपूर होते हैं जो आपके 50 वर्ष के होने के बाद संज्ञानात्मक गिरावट को रोकने में मदद करते हैं।