यूपी चुनाव में हुई जैम और बटर की एंट्री

जैम

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर वाद-विवाद का सिलसिला तेज़ हो गया है। पहले अखिलेश यादव के जिन्ना वाले बयान को लेकर खूब सियासत हुई और अब अमित शाह के जैम वाले बयान पर वार-पलटवार शुरू हो गया है। इसी कड़ी में AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। बता दें, अलीगढ़ में एक रैली के दौरान ओवैसी ने कहा, अमित शाह ने आजमगढ़ की रैली में JAM का जिक्र किया। हमसे पूछा गया तो हमने कहा हम तो टोस्ट पर JAM लगाकर खा लेते हैं तो आप कौन से JAM की बात कर रहे हैं। उनको हर बात में आजम खान याद आते हैं। पार्टी के चीफ ने उनसे पूछा कि क्या आपको मुसलमानों का नाम लिए बिना नींद नहीं आती है।

दरअसल, गृह मंत्री अमित शाह ने बीते दिन एक रैली को संबोधित करते हुए हा था कि मोदी जी ने एक JAM नाम की योजना लागू की है। जिसमें J का अर्थ है जन धन बैंक खाते। जबकि A का अर्थ है आधार कार्ड। वहीं, M का मतलब हर आदमी के हाथों मे मोबाइल है। इसके अलावा उन्होंने समाजवादी पार्टी पर तंज कसते हुए बताया कि यूपी में सपा ने भी JAM लागू किया है जिसका अर्थ है J- जिन्ना, A- आजम खान और M- मुख्तार। उन्होंने आगे कहा कि ये लोग प्रदेश का भला नहीं कर सकते हैं।


बता दें, अमित शाह द्वारा जारी किए गए इस बयान के बाद समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और राज्य के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि ‘इधर-उधर के जैम मत ढूंढिए, जैम अकेले अच्छा नहीं लगता है। सब लोगों ने सुबह नाश्ता किया होगा और बिना बटर के आप भी नहीं चलोगे और ये भाजपा वाले नहीं जानते कि डायबिटीज में जैम नहीं खाया जाता है। उन्होंने आगे कहा कि ‘बिना बटर के कुछ नहीं हो सकता, बटर का मतलब अगली बार बताएंगे लेकिन इतना जान लीजिए कि उन्होंबने जैम भेजा है तो हम उनके लिए ‘बटर’ भेज रहे हैं।