भारत है अमेरिका का गुलाम- मणिशंकर अय्यर

भारत

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर ने सोमवार के दिन इंडिया रशिया फ्रेंडशिप सोसायटी द्वारा फिरोज़शाह रोड स्थित रशियन सेंटर में अपने भाषण के दौरान रूस और भारत के संबंधों को याद करते हुए कहा कि पिछले सात सालों से हमारे संबंधों में कमी आ रही है। पिछले सात सालों से हम रूस के साथ पहले जैसे मधुर संबंध नहीं बनाए रख पा रहे हैं जैसे कांग्रेस की सत्ता में थे। जब से मोदी सरकार केंद्र में आई है तब से सिर्फ और सिर्फ अमेरिका के साथ दोस्ताना व्यव्हार रखने पर गौर किय़ा जा रहा है। रूस के साथ हमारे संबंध पुराने हैं उन्हें मजबूत करने की ओर कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है। अमेरिका का साथ पाने के चक्कर में हम अमेरिका की गुलामी कर रहे हैं।


उन्होनें आगे बताया कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद 1995 से पंडित जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के प्रयासों से रूस के साथ हमारे संबंध हर रूप से मजबूत हुए थे। लेकिन 2014 के बाद से इन संबंधों पर कोई खास ध्यान नहीं दिया गया जबकि रूस हमारा पुराना साथी है।
रूस हमेशा से भारत के साथ खड़ा रहा है और अमेरिका के साथ संबंध बनाने के लिए हम रूस को नहीं भुला सकते।


दरअसल कंगना के आज़ादी के ऊपर विवादित बयानों के बाद कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर का ऐसा बयान आना कि देश अमेरिका का गुलाम बन रहा है चर्चा का विषय बना हुआ है।


मणिशंकर के अनुसार देश अब अमेरिका की गुलामी करने लगा है। देश में जब से मोदी सरकार आई है भारत सिर्फ अमेरिका के पीछे भाग रहा है। अमेरिका के साथ रिश्ते ज़रूर आगे बढ़ रहे हों मगर रूस के साथ भारत के पुराने और गहरे रिश्तों की डोर मजबूत करने पर गौर नहीं किया जा रहा है।