बिटकॉइन में कारोबर हुआ आसान, जानिए डिटेल्स

बिटकाइन

बिटकॉइन में एक बड़ा अपग्रेड हुआ है। यह ब्लॉकचेन को अधिक जटिल लेन-देन करने में सक्षम बनाता है। यह आभासी मुद्रा के उपयोग के मामलों को बढ़ाता है और स्मानर्ट कॉन्ट्रेजक्ट्सम को प्रोसेस करने के मामले में एथेरियम से थोड़ा अधिक प्रतिस्पर्धी बनाता है।


स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स self-executing लेनदेन हैं जिनके परिणाम पूर्व-प्रोग्राम इनपुट पर निर्भर करते हैं। 2017 में SegWit ब्लॉक क्षमता चेंज के बाद से, टैपरूट नामक एन्हांसमेंट, बिटकॉइन प्रोटोकॉल में सबसे महत्वपूर्ण बदलाव है। डिजिटल करंसी प्राइम ब्रोकर जेनेसिस में मार्केट इनसाइट्स की प्रमुख नोएल एचेसन ने कहा कि बिटकॉइन के संभावित एप्लिकेशन टैपरूट के साथ व्यापक हो गए हैं।


उन्होंतने कहा कि अधिक लचीले लेन-देन प्रकार और कम लागत बिटकॉइन पर डीआईएफआई (विकेंद्रीकृत वित्त) और एनएफटी (अपूरणीय टोकन) के अधिक विकास का समर्थन करने की संभावना है, और मूल क्रिप्टो नेटवर्क पर तकनीकी प्रगति की लहर के लिए मंच तैयार कर सकते हैं।


टैपरूट के सक्रिय होने से कुछ हद तक, बिटकॉइन में तेजी आई है, जिसने इसे 10 नवंबर को $69,000 के सर्वकालिक उच्च स्तर पर धकेल दिया है। पिछले दो महीनों में, बिटकॉइन में लगभग 47 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।


Taproot अपग्रेड में तीन अलग-अलग अपग्रेड होते हैं। हालांकि, इसके मूल में, अपग्रेड ने schnorr नामक एक नई डिजिटल हस्ताक्षर योजना पेश की है जो बिटकॉइन लेनदेन को अधिक कुशल और अधिक निजी बनने में मदद करेगी। बिटकॉइन user को अधिक जटिल स्मार्ट अनुबंधों को निष्पादित करने के लिए Schnorr का भी लाभ उठाया जा सकता है।


रविवार को ब्लॉक 709,632 पर Taproot आधिकारिक रूप से सक्रिय हो गया। ब्लॉकचेन लेन-देन को बैच या ब्लॉकों में व्यवस्थित करता है। हरेक ब्लॉक में केवल एक निश्चित संख्या में लेन-देन हो सकते हैं। इस विशेष उन्नयन पर चर्चा 2016 की शुरुआत में शुरू हुई।