चीन और तालिबान के बीच दोहा में बैठक

चीन और तालिबान

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने सोमवार को दोहा की राजधानी कतर में तालिबान के उप प्रधानमंत्री मुल्ला अब्दुल गनी से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने तालिबान से अपने पड़ोसी देशों के प्रति एक दोस्ताना नीती अपनाने का आग्रह किया। इसके साथ ही उन्होंने महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करने की उम्मीद जताई। बैठक में बरादर ने वांग को अफगानिस्तान में मौजूदा स्थिति के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि देश में लगातार सुधार हो रहा है और सरकारी फरमानों को प्रभावी ढंग से लागू किया जा रहा है।


बैठक के दौरान वांग ने कहा कि अफगानिस्तान को वर्तमान में देश का पुनर्निर्माण करने का ऐतिहासिक अवसर मिला है। इसके साथ ही अफगानिस्तान मानवीय संकट, आर्थिक अराजकता, आतंकवाद के खतरे और शासन संबंधी कठिनाइयों समेत कई चुनौतियों का एक साथ सामना कर रहा है। इन चुनौतियों पर काबू पाने के लिए अफगानिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से और अधिक समर्थन की आवश्यता हैं।

वांग ने आश व्यक्त करते हुए कहा कि तालिबान आने वाले दिनो में सहिष्णुता का प्रदर्शन करेगा, देश के शांतिपूर्ण पुनर्निर्माण के लिए अफगानिस्तान में सभी जातीय समूहों और गुटों को एकजुट करेगा और महिलाओं बच्चों के अधिकारों और हितों की प्रभावी ढ़ग से रक्षा करेगा।
चीनी अधिकारी ने तालिबान से अपने पड़ोसी देशों के प्रति मेत्रीपूर्ण नीति अपनाने और लोगों की इच्छाओं के साथ-साथ समय की प्रवृति के अनुरूप एक आधुनिक देश का निर्माण करने का भी अग्रह किया। वांग ने कहा कि चौन हमेशा अफगानिस्तान की संप्रभुता, स्वतंत्रता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करता है और स्वतंत्र रूप से अपने भाग्य का निर्धारण करने और विकास का रास्ता चुनने के लिए अफगान लोगों का समर्थन करता है।