आखिर क्यों एक्सपर्ट की चेतावनी के बाद भी ट्रंप अमेरिका को खोलना चाहते हैं

संपदा

कोरोना वायरस का संक्रमण दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। कोरोना बड़ी तेजी से सब को अपनी चपेट में ले रहा है। संक्रमण रोग एक्सपर्ट डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना वायरस का संक्रमण इतनी आसानी से नहीं जाएगा और इस संक्रमण को कम करने के लिए लॉकडाउन ही एक मात्र उपाय है। कोरोना एक्सपर्ट द्वारा कोरोना वायरस के दोबारा आने की चेतानवी देने के बावजूद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अगले महीने से अमेरिका को फिर से खोलने की तैयारी कर रहे हैं।
अमेरिका के अर्थशास्त्रियों ने भी चेतावनी जारी की है कि अभी देश से प्रतिबंधों को हटाना खतरे से खाली नहीं है, लेकिन ट्रंप किसी की बात सुने बिना अपने फैसले पर अड़े हुए हैं। वाशिंगटन पोस्ट के एक रिपोर्ट के अनुसार ट्रंप एक मई से अमेरिकी उद्योग व्यवसाय को फिर से खोलना चाहते हैं। उन्हें इस बात का डर है कि अगर अमेरिकी शेयर बाजार की हालत नहीं सुधरी और अमेरिका में इसी तरह से बेरोजगारी बढ़ती रही तो उन्हें दोबारा चुनाव जीतने में परेशानी हो सकती है। ऐसा बताया जा रहा कि ट्रंप के फिर से अमेरिका खोलने के इस प्लान का उनके कुछ टॉप सहयोगी समर्थन कर रहे हैं। गुरुवार को अमेरिका के ट्रेजरी सेक्रेटरी स्टीव न्यूचिन ने सीएनबीसी के इंटरव्यू में कहा हा कि अगर राष्ट्रपति ऐसा सोचते हैं कि अगले महीने से अमेरिका में बिजनेस को फिर से शुरु किया जा सकता है तो वह ऐसा ही करेंगे। वहीं दूसरी तरफ एक्सपर्ट का कहना है कि अगर अमेरिका से प्रतिबंधियों को हटाया गया तो वायरस से लड़ने में जो प्रगती हासिल हुई है उसका नुकसान हो जाएगा। इससे कोरोना का फिर से अमेरिका पर अटैक हो सकता है।