आईआईएमटी के छात्र ने बनाई सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने वाली घड़ी

क्रॉसर- कोरोना संक्रमण से करेगी बचाव
सोशल डिस्टेंसिग का उलंघन होने पर करेगी अलर्ट

देश में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जो कि कोरोना महामारी से प्रभावित नहीं हुआ। कोविड-19 से संक्रमण से लाखों लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। इस समय भी देश में कोरोना के मामले लगातार आ रहे हैं। इस समय भी लोग सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए आईआईएमटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग ग्रेटर नोएडा के तृतीय वर्ष के ईसी विभाग के छात्र हर्ष भारद्वाज ने एक ऐसी घड़ी को विकसित किया है जो कि लोगों को सोशल डिस्टेंसिग का पालन कराएगी। इसके साथ ही यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली को भी मापने में मदद करेगी। इस घड़ी को दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए बनाया गया है।

घड़ी कैसे करेगी कामः मान लिजिए कि एक ऑफिस में 10 लोग काम करते हैं और उन सभी ने इस घड़ी को पहन रखा हैं तो अगर वह सामाजिक दूरी का पालन नहीं करते हैं यानी 6 फिट की दूरी का उलंघन करते हैं तो घड़ी तुरंत व्यक्ति को अलर्ट करेगी।
घड़ी में और भी हैं खासियतः वॉच को बैंड इनोवेटिव फीचर्स के साथ बनाया गया है। इसमें हेल्प टू सोशल डिस्टेंसिंग, 24/7 टेम्परेचर मॉनिटरिंग ऑफ ह्यूमन बॉडी, वाटर रेसिस्टेंट, डिजिटल टाइम वॉच, इसकी बैटरी को एक बार चार्ज करने के बाद एक सप्ताह तक यूज किया जा सकता है। छात्र हर्ष भारद्वाज ने बताया कि घड़ी को बनाने में ओरडयूनो प्लेटफॉर्म और सी प्रोग्राम का उपयोग किया गया है। इस घड़ी को बनाने में 1400 रूपये खर्च हुए हैं। वहीं वॉच को पेटेंट के लिए अपलाई कर दिया गया है। उन्होंने आगे कहा कि इसको सहायक प्रोफेसर बसंत महतो और प्रो. डॉ. सीमा नायक के मार्गदर्शन में बनाया गया है। इस उपलब्धि कॉलेज समूह के प्रबंध निदेशक मयंक अग्रवाल ने कहा है कि यह घड़ी कोरोना से बचाव के लिए एक महत्वपूर्ण हथियार साबित होगी।